कौन आता है यहाँ इस दर के लिए::: Saleem KHAN


वक़्त रुकता नहीं पल भर के लिए
कौन आता है यहाँ इस दर के लिए

उसको आया गया
मुझसे बुलाया गया
कौन रखता है भरम इस सर के लिए

आंसुओं और अंधेरों में अब रहता है
जाने क्यूँ दिल उदास अब रहता है
जाने क्यूँ है ख़ला बेख़बर के लिए


मेरी बस्ती में ऐसा सूनापन
उसकी महफ़िल ऐसा हंगामा
इतना फ़र्क़ रिश्ता अन्दर है लिए

इक ज़रा साथ मिले तो कह दूं
कितना उससे मैं प्यार करता हूँ
तरस गया हूँ मैं उस मंज़र के लिए

बेसबब बात यूँ उससे उलझ सी गयी
मुश्तक़बिल की तस्वीर बदल सी गयी
एक बूँद मिली मेरे समंदर के लिए


वक़्त रुकता नहीं पल भर के लिए
कौन आता है यहाँ इस दर के लिए
(Saleem Khan)

4 टिप्पणियाँ:

kshama ने कहा…

इक ज़रा साथ मिले तो कह दूं
कितना उससे मैं प्यार करता हूँ
तरस गया हूँ मैं उस मंज़र के लिए

बेसबब बात यूँ उससे उलझ सी गयी
मुश्तक़बिल की तस्वीर बदल सी गयी
एक बूँद न मिली मेरे समंदर के लिए
Bahut khoob!

सलीम ख़ान ने कहा…

shukriya !

shama ने कहा…

Bahut badhiya rachana hai!

bahut achchha lga..padhkar..ek sashakt,thhahari huee rachnaa..

Blogger Template by Clairvo