वो प्यार था ही नहीं !

इन्सान किसी से मुहब्बत करता है,
अपनी आरज़ू का इज़हार भी करता है,
उस इज़हार का इक़रार भी होता है,
वक़्त के परों पर मुहब्बत जवान होती है......
मगर ये क्या......

मुहब्बत का जब परवान होना चाहिए, उरूज़ होना चाहिए,
उस वक़्त वो आपका साथ छोड़ देता है......तनहा और अकेला

मुझे यह बात बाद में समझ आई ....... कि

"मोहब्बत का एक उसूल होता है, आपसे प्यार करने वाला चाहे कितनी दूर क्यूँ न हो, उससे मिलने की परिस्थितियां कितनी भी नकारात्मक क्यूँ न हो भले ही आप उसे खुला छोड़ दें...अगर आपसे उसका प्यार सच्चा, वाकई सच्चा होगा तो वह ज़रूर वापस आएगा और अगर नहीं आया तो समझ लीजिये कि उसने आपसे कभी प्यार किया ही नहीं.............."

वाक़ई !!!?

1 टिप्पणियाँ:

vandana ने कहा…

bahut sahi kaha aapne

Blogger Template by Clairvo