चेहरे कैसे-कैसे इस दुनिया में, सदियाँ लग जायेंगी ये जानने में !



चेहरे कैसे-कैसे इस दुनिया में, सदियाँ लग जायेंगी ये जानने में
कौन अपना और कौन पराया, सदियाँ लग जायेंगी ये जानने में !

भीड़ बहुत है इस दुनियां में, अपनों की भी कमीं नहीं 
इन्सान इसमें से कौन है, सदियाँ लग जायेंगी ये जानने में !

वो हमें हर सू अपना कहता रहा और जफा भी करता रहा
वो मेरा महबूब है भी या नहीं, सदियाँ लग जायेंगी ये जानने में !

लेकिन फिक्र किस बात की और ग़म किसका अब 'सलीम'
वो मेरा रक़ीब ही है, सदियाँ लग जायेंगी ये जानने में !

1 टिप्पणियाँ:

deepak saini ने कहा…

वो हमें हर सू अपना कहता रहा और जफा भी करता रहा

bahut khoob

Blogger Template by Clairvo